कजरी

डाढ़ि डाढ़ि जइसे पातरी बिजुलिया झूले
खाइ के कलइया झूले ना।

नैन अलोते छिपाई
गोड़े गोड़े गुदराई
धाइ बइसि के सहेली के कन्हइया झूले।
खाइ के

दूनो पल्ला बीने बाँधे
गोरी बँहिया नेवाधे
आधे ऊन में लपेटली सलइया झूले।
खाइ

 

आनन्द संधिदूत

Related posts

Leave a Comment