सतुआ

पहिले सतुए रहे ग़रीबवन के आहार केहू जब जात रहे लमहर जात्रा प त झट बान्हि लेत रहे गमछा में सतुआ,नून, हरियर मरीचा आ पियाजु के एकाध गो फाँक केवनो चापाकल भा ईनार से पानी भरि के लोटा भर सुरूक जात रहे केहुओ बेखटके ऊ बिस्लरी बोतल के ज़माना ना रहे सतुआ सानि के गमछिए प खा लिहल जात रहे ओह घरी गरमी में केवनो पीपर,बर आम भा महुआ के छाँह में पहिले लोग क लेत रहे गुज़र-बसर सतुओ खाके ओह घरी बजार में बेंचात ना रहे केवनो फास्टफूड अब…

Read More

बैनीआहपीनाला

प्यार के रंग कइसन होला का ख़ूब गाढ़ लाल ओढ़हुल के फूल नियर   का ख़ूब गाढ़ पीयर सरसों के फूल नियर   का ख़ूब गाढ़ नीला अलसी के फूल नियर   का ख़ूब गाढ़ हरियर घास नियर   का ख़ूब गाढ़ कत्थई पाकल सेब नियर   का ख़ूब झक्क सफ़ेद चाँदनी नियर   आख़िर कइसन होला रंग प्यार के   का रंग प्यार के बैंगनी होला   आसमानी होला   नारंगी होला   का प्यार के रंग में शामिल नइखन स सब रंग दुनिया के   एकरा में शामिल…

Read More