एगो त्रिवेणी इहवों बा

मन में घुमे के उछाह, सुन्दरता के आकर्षण आ दू देशन के राजनैतिक सीमा के बतरस के त्रिवेणी में बहत हम त्रिवेणी जात रहनी. हमनी के छह संघतिया रहनी जा आ एगो जीप के ड्राईवर. हमरा के छोड़ के सभे एह प्रान्त से परिचित रहे. हमरा बेचैनी के एगो इहो कारन रहे की आजु ले हम त्रिवेणी नाम इलाहबाद के संगम खातिर सुनले रहनी. ई त्रिवेणी कवन ह? उत्तर-प्रदेश के कुशीनगर जिला मुख्यालय से लगभग नब्बे किलोमीटर उत्तर-पछिम के कोन में बा ई. पाहिले त गंडक नदी के भयावहता के…

Read More