गीत

सुना ए!  बाबू भइय्या, सुनी न  काकी  महतारी

जग में फइलल बाटे, कोरोना के देखीं महामारी

 

 

सर्दी जुखाम फीवरबाटे एकर लच्छन

गरवा में चुभे बहुतदम फूले  छन छन

छुवला से फइलत बाटे, अइसन बीमारी

जग में फइलल………….

 

 

कउनो इलाज नइखेना कारगर दवाई

जेके लग जाई भइय्या, बचहु  नऽ  पाई

घरवे में दुबकल रहीं, जान  जदि प्यारी

जग में फइलल………

 

 

सारा जग लाचार भइल, डरे लोग, लोग से

जाने कतना जान गइल, कॅरोना के रोग से

सोची  डरे  सभै  इहेअगला केकर बारी

जग में फइलल बाटे………..

 

सुना ए!  बाबू भइय्या, सुनी न  काकी  महतारी

जग में फइलल बाटे, कोरोना के देखीं महामारी

जग में फइलल बाटे………..

जग में फइलल बाटे………..

 

©®@ राज जौनपुरी ( राजेश जैसवारा )

मो. न.- 9451359936

2/162 एल आई जी, आवास विकास कॉलोनी

योजना-3, झूँसी, प्रयागराज (उ. प्र.)

पिनकोड- 211019

 

Related posts

Leave a Comment