बरखा गीत

बदरी बदरी बा नयनवां
जाने कब बरसे
ओरियाव हो अंगनवां
जाने कब बरिसे।
ढांप दिह लय धुन ढांप दिह गीतिया
ढंपिह पथार लेखा पसरी पिरितिया
ढंपिह अच्छर गियनवां
ओठे कहनी कथनवां
हाथे दूनो दरपनवां
जाने कब बरि से। बदरी0

 

जिन मेहराये सांसतोहरो उछहिया
ओरा बोराओढ लीह जिनगी के रहिया
झारदीह कुण्ठा कथनवां
कइले मनगर मनवां
रखिह अपनों धियनवां
जाने कब बरिसे।बदरी0

 

ढहेजिन फूल पातसुघर सपनवां
फेरि दीहहंसी खुशी अपनों भवनवां
बइठअ एक खनकोनवां
धइलअ सोचे के समनवां
दूगो लकड़ी लवनवा
जाने कब बरिसे। बदरी0

 

 

  • आनंद संधिदूत

 

Related posts

Leave a Comment