घेरी घेरी बरसे बदरिया

घेरी घेरी बरसे बदरिया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।

बदरा अंगे अंग करेला ठिठोली
मारे ला मुस्की बोलेला कुबोली
घड़कन जगावे बुजुरिया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।

चुअ ता ओरवन बह ताटे खोरी
छुअत हवईया मोहै चोरी चोरी
झाँकत घटा अँगनईया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।

देवरा सतावे ला कजरा निहारी
ननदी ठिठोली करै खींची सारी
भभक ता मन कै डिबरिया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।

केतना कहीं साँच का का बताईं
हियरा बहै लोर कईसे देखाईं
“योगी” सतावै पिरितिया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।

घेरी घेरी बरसै बदरिया
बलम नौउकरिया से आई जा हो।।”योगी”

 

  • योगेन्द्र शर्मा ‘योगी’

चकिया,चंदौली

 

Related posts

Leave a Comment