इनरा मर गइल

कहीं होत होई नादानी

बाकिर

हमरा गाँवे त

इनरा के पानी

सभे पीये

सबके असरा पुरावे इनरा

तबो मर गइल

ई परमार्थ के पुरस्कार

का भइल?

समय के साथे

लोग हुँसियार हो गइल

इनरा के पानी

बेमारी के घर लागे लागल

लोग रोग-निरोग के बारे में

जागे लागल।

लोग जागे लागल

आ इनरा भराए लागल

लइका-सेयान

सभे कुछ-कुछ डाले

इनरा के सफाई के बात

सभे टाले,

अब साँस अफनाए लागल इनरा के

लोग ताली बजावे लागल कि

अब केहू बेमार ना होई।

आज हाहाकार बा पानी खातिर

बात बुझाता अब

कि आम कहाँ से मिली

जब रास्ता रुंहे खातिर

लोग बबूल बोई।

 

  • केशव मोहन पांडेय

Related posts

Leave a Comment