का फरक …?

बाति त जवन बा तवन बा बाति त इहे बा जवन हम लिखेनी भा छापेनी। बाचल-खुचल के कुछो बूझीं बलुक ओकरो से कुछ बेसी बूझीं हमरे दीहलका गियान सगरों बघारेले हम चिघ्घारिले त उहो चिघ्घारेले।   ओइसे जहवाँ तक राउर नजर जाई सब अपने बा दोसरा के सपने नु बा रहो ? का फरक ….? अइसन कुल्हि ढेर देखले सुनले बानी लोग चिचिआई,छिछिआई फेरु चुपा जाई फेर त हमरे नु कहाई पगड़िया त हमरे माथे नु बन्हाई ?   फलाने के चीजु ढेकाने अपने नाँव से छापें भा गावें चाहे…

Read More