मेघा ! रे मेघा !!

मेघा ! रे मेघा !! बदरवा,

उमड़-घुमड़ के बरिसS मेघा।

उमड़-घुमड़ के बरिसS।

घूम-घूम चहुं झूम-झूम भुंइ,

लरकि लरकि के बरिसS मेघा।

उमड़-घुमड़ के बरिसS।

 

चोंच खोल नभ चिरई ताके,

हाँफे-काँपे मन भुंइया के,

छुधा ताप अन्हियार नयन तर,

चमकि-चमकि के बरिसS, मेघा।

उमड़-घुमड़ के बरिसS।

 

दीपक राग सधल के गवले,

निज अंतर, धरती धनकवले,

मेघ मल्हार सधल गाई हम,

झमकि-झमकि के बरिसS, मेघा।

उमड़-घुमड़ के बरिसS।

 

जो तोहरा घर पानी नइखे,

लोर पसेना ले जा सबके,

आस लगल बा प्यास बुता दs,

छमकि- छमकि के बरिसS, मेघा।

उमड़-घुमड़ के बरिसS।

 

  • अनिरुद्ध

 

Related posts

Leave a Comment