बड़ा-बड़ा फेरा बा

बड़ा-बड़ा फेरा बा
भारी झमेला बा
तिलक त लेबे के मन नइखे समधी जी
दहेज के पेंच लगावे के सरधा
एकदम नइखे समधी जी
बाकी हई …….

नाच ह बाजा ह
खजुली ह खाजा ह
साज ह समैना ह
बीजे ह बैना ह
गांव ह जवार ह
गोतिया देयाद ह
हीत ह हीतारथ ह
सभके सवारथ ह
हरिस ह कलसा ह
गउरी गनेसा ह
पुजा ह पतरा ह
देवतन के असरा ह
गहना ह गुरिया ह
पवनी पनहरिया ह
सूट ह साड़ी ह
डोली ह गाड़ी ह
कोकड़वर ह बुकवा ह
बाभन ह नउआ ह
बुनिया ह पूड़ी ह
खइनी ह बींड़ी ह
सेनूर सिन्होरा ह
मउर ह मोन्हा ह

आ अतने ना थोरे
जोराई ना जोरले
बियाह के बादो ले
जरलका के जेठ, भरलका के भादो ले ……

बड़ा-बड़ा बीपत ह
नेवता बउरँहत ह
फगुआ ह तीज ह
कतना दो चीझ ह
मेमिन ह चमइन ह
छठी ह बरही ह
बर ह बेरामी ह
तूल ह तलामी ह

अब सुभ के मोका प ए सवाँग
लेबे के त ना लेब
पाँच गज मरकीन भा रँथी के नाव
अब जेकर बेटिए चल जाई
सेकर दुख कहले कहाई ?

बाकी ,
बाकी ना होइ गउदान
सेजियादान
दसवाँ-सराध

त रवे कहीं
अपना छाती प ध के हाथ
कि होइ बरदास ?

से अतने सकार लीं
सभके निबाह लीं
आ तबो जे मांगी हम कुछुओ
त दी कागज
मोंछ के ठेप्पा दे के लिख दीं
कि कुत्ता करार दीं

आ हा लीं चाह त ठंढाता
पीहीं …… पीहीं ना
पीहीं…..!

 

  • प्रकाश उदय

Related posts

Leave a Comment