फागुन महीनवां

सरसों क कटिया-करत गोरी बतिया
घरवां ना बलमू-कटेले सूनी रतिया
फागुन महीनवां-बलम कलकतिया
अगिया लगल तन-जरे मोरि छतिया

चहके चिरईया-बोलेला बन मोरवा
कुहूँके कोयलिया-निगोरी पिछवरवाँ
आधी-आधी रतिया-उदासल$महोखवा
बिहरेले छतिया-फगुनवां क रतिया

पतझर पतईया-झरेले-झर अंखिया
चढ़ली उमिरिया-झुराले रस देहियां
आवें अनवईया-बोलावें मोरि सखियां
जोहत डगरिया-बेकल दिन-रतिया

बहे फगुनहटा-उड़ावेला अंचरवा
फूले फूल फूलवा-बोलावत भँवरवा
आवा हे सुगनवां-उदास मोरि खोतवा
अमवा बऊर रस-लागे ना टिकोरवा

  • राकेश कुमार पाण्डेय
    हुरमुजपुर,सादात
    गाजीपुर, उत्तर प्रदेश

Related posts

Leave a Comment