“तीर” चुनाव चिन्ह के संगे जदयू गुजरात चुनाव मे उतरी

चुनाव आयोग जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के चुनाव चिन्ह के मसला मे  नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जदयू के चुनाव चिह्न ‘तीर’ देवे के फैसला कइलस। चुनाव आयोग जदयू के चुनाव चिन्ह तीर प आपन फैसला सुनावत कहलस कि चुनाव चिन्ह तीर प अब शरद यादव के ना बालुक, नीतीश कुमार के दावेदारी रही । चुनाव आयोग के फैसला के बाद नीतीश गुट में खुशी के लहर दौड़ गइल।

जदयू नेता अवुरी पार्टी के महासचिव संजय झा चुनाव आयोग के फैसला के स्वागत करत कहले कि पार्टी के पक्ष में चुनाव आयोग बड़ फैसला सुनवले बा अवुरी ए फैसला के गुजरात चुनाव प भारी असर परी । उ कहले कि सच्चाई के जीत भइल बा।

मालूम रहे कि महागठबंधन टूटला के बाद से दुनों खेमा के बीच चुनाव चिन्ह से जुड़ल विवाद रहे। एकरा से पहिले जदयू के नीतीश कुमार वाला खेमा सोमवार के चुनाव आयोग से मिल के पार्टी के चुनाव चिन्ह प जल्दी फैसला लेवे के मांग कइलस।

शरद यादव गुट भी पार्टी के चुनाव चिह्न ‘तीर’ प आपन दावा करत रहे। नीतीश गुट के आरोप रहे कि शरद गुट ए फैसला के लटकावल चाहता ताकि गुजरात विधानसभा चुनाव में पार्टी के निशान के इस्तेमाल मत होखे।

चुनाव आयोग के सोझा जनता दल यूनाइटेड के दुनों (नीतीश अवुरी शरद) गुट के बीच मंगलवार के घंटों सुनवाई चलल रहे जेकरा बाद चुनाव आयोग फैसला सुरक्षित राख लेले रहे।

चुनाव आयोग के फैसला अईला के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में अब जदयू गुजरात विधानसभा चुनाव में आपन चार-पांच परंपरागत सीट प चुनाव लड़ी।

 

Related posts

Leave a Comment