गाजियाबाद के भोजपुरी साहित्यकार के मिलल पं धरीक्षण मिश्र साहित्य सम्मान

गाजियाबाद के सुप्रसिद्ध भोजपुरी कवि जयशंकर प्रसाद द्विवेदी के उनुका पहिलका भोजपुरी कविता संग्रह ‘पीपर के पतई’ खातिर सर्वभाषा ट्रस्ट का ओरी से पं धरीक्षण मिश्र साहित्य सम्मान से नवाजल गइल। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिला जवन भगवान बुद्ध के परिनिर्वाण स्थली का रूप मे जानल जाला, उहवें गत 23 मार्च के सर्व भाषा ट्रस्ट, ‘जर्नलिस्ट्स वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन’ आउर ‘नवप्रभा मंच’ के संगे भगवान बुद्ध के परिनिर्वाण स्थली, अज्ञेय के जन्म-स्थली, कुशीनगर में ‘पं. धरीक्षण मिश्र साहित्य सम्मान 2018’ के आयोजन भइल रहे। ओही समारोह में ई सम्मान विधायक रजनीकान्त मणि त्रिपाठी,डॉ वेदप्रकाश पाण्डेय आउर आर डी एन श्रीवास्तव के हाथ से  दीहल गइल।दिल्ली, एन सी आर  के संगही पूरा देश में जयशंकर प्रसाद द्विवेदी के एगो लमहर भोजपुरी सेवी आ भोजपुरी मासिक पत्रिका ‘भोजपुरी साहित्य सरिता’ के संपादक का रूप में जानल जाला। जयशंकर प्रसाद द्विवेदी के अब ले 2 गो भोजपुरी किताब प्रकाशित हो चुकल बाड़ी, जवना में से एगो भोजपुरी काव्य संग्रह आ एगो भोजपुरी गीत संग्रह बाटे। एकरे अलावा भोजपुरी में द्विवेदी जी के सैकड़ा से ढेर रचना पत्र-पतरिकन में प्रकाशित हो चुकल बाटे। गाजियाबाद के भोजपुरी साहित्यकार के सनमान असल में गाजियाबाद के माटी के सनमान बाटे।

Related posts

Leave a Comment