ऐतिहासिक पुस्तक बाटे ‘आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया’

प्रख्यात साहित्यकार डॉ. अर्जुन तिवारी कवनो परिचय के मोहताज़ नइखें आउर ना त उनुकर साहित्यिक जोगदान। भोजपुरी साहित्य के समृद्ध करे वालन में उनुकर  नाम गरब के संगे लीहल जाला। भोजपुरी साहित्य का इतिहास, भोजपुरी शब्दकोश जइसन अनेक किताबियन के रचना कइले बाड़ें। सर्व भाषा ट्रस्ट प्रकाशन से उनुकर एगो किताबि ‘आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया’ आइल ह।

डॉ. अर्जुन तिवारी के हालिए प्रकाशित किताबि ‘आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया’ में भोजपुरी मिट्टी के रणबाँकुरन आउर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियन के बरियार चर्चा त बड़ले बा, किताबि में भोजपुरिया प्रवृत्तियो के गहिराह चरचा कइल गइल बा। किताबि में अनेक दस्तावेजो के राखल गइल बा। जवन शोध करे वालन खाति आ भोजपुरी के खाति मूल्यवान बाटे।

‘आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया’ किताबि बिक्री खाति अमेज़न, फ्लिपकार्ट के अलावा ऑनलाइन डिमांडो पर उपलब्ध बा। 224 पृष्ठ के एह पेपरबैक किताबि के मूल्य 225 ₹ बा। एकरा के सर्व भाषा ट्रस्ट, नई दिल्ली प्रकाशित कइले बा। ई सगरी भोजपुरियन ला एगो सौगात बा।

 

Related posts

Leave a Comment